बीस से तीस की उम्र

किसी के लिए तीस की तो किसी के लिए साठ की पर मुझे तो यह बीस की उम्र सबसे मुश्किल लगी। बीस से तीस की। सपने हैं आसमान छूने के और हकीकत में हौसला दो कदम चलने का भी नहीं। लेकिन आँखें है कि ख्वा़ब देखने से नहीं हटती।

सुबह की शुरुआत ठीक-ठाक, शांति से होती है लेकिन रात तक आते आते दम निकल जाता है। पलकों पर आँसू यूँ जमा हो जाते हैं मानो, आँखों ने सदियों से कैद कर रखे हों और अब आजादी मिलने ही वाली है। हर तरफ सवाल घेरे हुए हैं। मंजिल क्या है? रास्ता क्या है? मिलना क्या है? अपना कौन है? आखिर किसलिए है ये दिनभर की जद्दोजहद? और आखिर में एक सवाल घर कर जाता है। असल में एक शब्द। ‘मैं’। क्या हूँ? कौन हूँ? क्यूँ हूँ?’ मैं’।

अजीब सी उलझन है। पता नहीं बात समझानी नहीं आती या कोई समझता ही नहीं। दिल में बोहोत कुछ है कहने को। पर कहें किसे? सुने कौन? समझे कौन? किसी को कुछ बताओ भी तो ‘सलाह’ के ढेर लगा देता है। किसके पास है वक्त इतना कि कोई इत्मिनान से सुन ले। हर कोई एक लड़ाई लड़ रहा है। पता नहीं यह लड़ाई जिंदगी से है, वक्त से या खुद से।

ठहराव नाम की चीज ही नहीं है। जो भी है पल भर के लिए है। बंजारे सी जिंदगी हो चली है। कोई भरोसा नहीं कि रात भी वहीं बितेगी जहाँ सुबह हुई या सुबह भी वहीं होगी जहाँ रात बीती।

ना मंजिल का पता है। ना रास्ते का। बस चले जा रहे हैं।

Roughly Translated:

Thirties for some while sixties for others, but it is the age of twenties that I found the most difficult. Twenty to thirty. Dreams are to touch the sky and in reality, don’t have the courage to take two steps on ground. But eyes don’t shun dreaming.

The beginning of the morning is well, calmly but it is breath taking till it comes to the night. Tears are collected on the eyelids as if they have been imprisoned for centuries and now they are about to get freedom. The questions are all around. What is the destination? What’s the way? What would be the result? Who is mine? What is the reason for this? And finally a question entrenches in the heart. Actually a word. ‘I’. What am I? Who am I? Why am I? ‘I’.

There is a strange confusion. I do not know, if I’m unable to make others understand or it’s that nobody wants to understand. There is a lot in the heart to say. But whom to say? Who will hear? Who will understand? Even if you tell someone, then he gives a heap of ‘advice’. Who has so much time that they can hear it patiently? Everyone is fighting a fight. Do not know this fight is with life, with time or with self.

There is nothing like stability. Whatever there is, it is for the moment. Life has become like a gypsy’s. Nothing is known that if night will be spent at the same place where the sun rose or the sun will rise at the same place where the night is spent.

Unaware of the destination, path. Just going on.

Advertisements

33 thoughts on “बीस से तीस की उम्र

  1. As I’m entering in this age…
    Same feeling occurs

    Dude I’m sure… this couldn’t be so touchy if you hadn’t experienced this phase of life…
    Nicely penned 👌👌👌

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s